ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
ग्रामीणों ने कहा हमारे यहां भी हो सड़क निर्माण
September 20, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

ग्रामीणों ने कहा हमारे यहां भी हो सड़क निर्माण
👉 गांव में नहीं है कोई संपर्क मार्ग
👉 बारिश के दिनों में गांव के बाहर खड़े होते हैं साइकिल और किसान के वाहन
👉 बरसात के दिनों में पैदल चलना दूभर इसने दुर्गम है रास्ते
👉 बरसात में कट गई पूरी तरह से मिट्टी कहीं पगडंडी तो कहीं सिर्फ बचे हैं गड्ढे
👉 बीमार व्यक्तियों को चारपाई सहित ले जाना पड़ता है गांव के बाहर
 👉 ग्रामीणों ने की मांग हमारे यहां भी हो सड़क का निर्माण
👉 लगभग 200 से अधिक आबादी के हैं दोनों गांव
👉 भासरौल ग्राम सभा के रघुवर डेरा और पत्रियन डेरा है दोनों गांव
👉 अधिकारियों ने जल्द से जल्द कराएंगे उन गांवों में भी संपर्क मार्ग का निर्माण

किशनपुर/फतेहपुर किशनपुर थाना क्षेत्र के विजयीपुर विकासखंड के अंतर्गत थूरियानी भासरौल मार्ग से शिवप्रसाद के डेरा तक लोक निर्माण विभाग की तरफ से पंद्रह सौ मीटर की सड़क का निर्माण किया जा रहा है।
    गांव वालों ने आरोप लगाया कि विभाग की तरफ से जिस मानक के अंतर्गत सड़क बनवाई जाती हैं उस सामान से सड़क का निर्माण नहीं हो रहा है और नहर रोड से 300 मीटर अंदर खड़ंजा ग्राम निधि के अंतर्गत और 100 मीटर की इंटरलॉकिंग जिला पंचायत के अंतर्गत करवाई गई थी।
    जिसको तोड़ कर विभाग सड़क निर्माण करवा रहा है वही पतरियान डेरा  और रघुवर डेरा के ग्रामीणों ने कहा कि शासन प्रशासन के पास अगर बजट नहीं है तो  हमारे गांव की  सड़क जो लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत आती है उसकी मरम्मत ही करा दें जिससे कि हमारे गांव तक स्कूली गाड़ी और एंबुलेंस आ जाए  सड़क निर्माण ना हो पाने के कारण ग्रामीणों ने बताया कि अगर पानी की एक बूंद भी सड़क पर पड़ गई तो निकलने का रास्ता पूरी तरह बाधित हो जाता है और हम लोग अपनी गाड़ी और साइकल दूसरे गांव के बाहर खड़ी करते हैं। वही किसान और समाजसेवी धर्मेंद्र दिक्षित ने माँग की सरकार को चाहिए कि जल्द से जल्द पत्रियन डेरा और रघुवर डेरा जिनके यहां अभी संपर्क मार्ग नहीं है जल्द से जल्द संपर्क मार्ग बनवाएं।
    वही इस बात को लेकर जब हमने लोक निर्माण विभाग के जेई से बात की तो उन्होंने बताया कि खड़ंजा को पक्का मार्ग नहीं माना जाता इसलिए उसके ऊपर पक्की सड़क बनाई जा रही है वहीं उन्होंने बताया कि इस रोड के बाद चातर डेरा के तरफ भी सड़क बननी है जो कि अभी अगल-बगल खड़ी फसल होने के कारण उसका निर्माण कार्य शुरू नहीं हो सका साथ ही साथ उन्होंने बताया कि ढाई सौ से अधिक आबादी वाले गांवों को सड़क मार्ग से जोड़ने के लिए अभी शासनादेश आए हैं और 2 गांव रघुबरडेरा और पत्रियन डेरा जो नहीं बन रहे उनके लिए भी शीघ्र अतिशीघ्र शासन से मांग की जाएगी।