ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
गोवंशीय पशुओं के संरक्षण एवं जागरूकता हेतु गोपाष्टमी पर्व का किया जाएगा आयोजन
November 20, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

गोवंशीय पशुओं के संरक्षण एवं जागरूकता हेतु गोपाष्टमी पर्व का किया जाएगा आयोजन।।

फतेहपुर 20 नवंबर 2020

मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी फतेहपुर, डॉ0 आर0के0 शर्मा ने समस्त उप मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारियों से कहा कि *गौवंशीय पशुओं के संरक्षण एवं जागरूकता हेतु दिनांक 22 नवंबर 2020* को सभी गोवंश आश्रय स्थलों , वृहद गौ संरक्षण केंद्र, गोवंश वन विहारो, पंजीकृत गौशालाओं एवं कान्हा उपवन आदि में *"गोपाष्टमी पर्व"* मनाया जाएगा के तहत कार्यक्रम -
●प्रातः 9:00 से 10:00 के मध्य आयोजित किए जाएंगे । 
●स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में व्यापक जन सहभागिता सुनिश्चित करते हुए गौ पूजन का आयोजन एवं अन्य कार्यक्रम नगरीय क्षेत्रों में नगर निकायों द्वारा तथा ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम पंचायतों द्वारा कराया जाए ।
●समस्त कार्यक्रमस्थलों में समुचित साफ-सफाई एवं व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए ।
●गोवंश के भरण-पोषण हेतु हरे चारे, चुनी चोकर एवं गुड़ आदि की समुचित व्यवस्था की जाए तथा इस कार्य के लिए जन सामान्य का सहयोग प्राप्त किया जाए ।
●सभी गोवंश आश्रय स्थलों और वृहद संरक्षण केन्द्रों गोवंश वन विहारो, पंजीकृत गौशालाओं एवं कान्हा उपवन आदि में कार्यक्रम के समय गौवंशो चिकित्सीय परीक्षण भी सुनिश्चित कराया जाए ।
● इस अवसर पर छुट्टा घूम रहे गोवंश को संरक्षित करने हेतु एक अभियान चलाया जाए तथा संरक्षित गोवंश की ईयर टैगिंग तथा टीकाकरण की कार्यवाही अनिवार्य रूप से की जाए ।
●आयोजन में माननीय मुख्यमंत्री जी निराश्रित, बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के अंतर्गत कुपोषित बच्चों के परिवारों को गांव आश्रय स्थलों से दुधारू गाय उपलब्ध कराने का कार्यक्रम भी रखा जाए  ।
●उपरोक्त के अतिरिक्त कार्यक्रम द्वारा जनमानस को गौपालन आधारित अर्थव्यवस्था गौ-ग्रास के बारे में संवेदनशील बनाया जाए तथा गौपालन के महत्व को उत्पादों एवं गौ आधारित जैविक कृषि को बढ़ावा देने के संबंध में जनमानस को जागरूक किया जाए । 
●राज्य सरकार द्वारा गौ-संरक्षण हेतु स्थापित किए गए गोवंश आश्रय स्थलों, गौसंरक्षण केन्द्रों वन विहारो, पंजीकृत गौशाला एवं कान्हा उपवन आदि भरण पोषण हेतु धनराशि की व्यवस्था तथा गौ सेवा आयोग के माध्यम से पंजीकृत गौशालाओं को अनुदान की व्यवस्था सहभागिता योजना तथा अन्य प्रयासों से आम जनमानस को अवगत कराने हेतु व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाए ।
   उक्त निर्देशों के अतिरिक्त स्थानीय स्तर पर स्वविवेक से यथोचित अन्य कार्यक्रम भी सम्मिलित किए जा सकते हैं । इस प्रकार जनमानस में गोवंश संरक्षण का दायित्व बोध सृजित करने हेतु आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने का कष्ट करें ।