ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
गलवन की घटना हमारी ताकत के आगे एक छोटी तस्वीर, भारत तैयार है- IAF चीफ
June 20, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • राष्ट्रीय

हैदराबाद। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया संयुक्त स्नातक परेड के लिए भारतीय वायुसेना अकादमी पहुंचे। एयर चीफ मार्शल भदौरिया की मौजूदगी में हैदराबाद में वायु सेना अकादमी में ग्रेजुएशन कंबाइंड परेड के दौरान भारतीय वायुसेना के जांबाजों ने आसमानी करतब दिखाए। इस दौरान उन्होंने भारत-चीन सीमा पर शहीद हुए जवानों को याद किया। एयर चीफ ने कहा, 'कृपया कर्नल संतोष बाबू और उनके बहादुर लोग जिन्होंने गलवान घाटी में LAC का बचाव करते हुए बलिदान दिया को श्रद्धांजलि देने में मेरे साथ शामिल हों। ये चुनौतीपूर्ण स्थितियों में वीरता से किसी भी कीमत पर भारत की संप्रभुता की रक्षा करने के हमारे संकल्प को प्रदर्शित करता है।'

राष्ट्र को विश्वास दिलाता हूं कि हम उद्धार करने के लिए दृढ़ हैं

यह बहुत स्पष्ट होना चाहिए कि हम किसी भी आकस्मिकता का जवाब देने के लिए अच्छी तरह से तैयार और उपयुक्त रूप से तैनात हैं। मैं उस राष्ट्र को विश्वास दिलाता हूं कि हम उद्धार करने के लिए दृढ़ हैं और गलवन के बहादुरों के बलिदान को कभी व्यर्थ नहीं जाने देंगे।

LAC पर विकास एक छोटी सी तस्वीर

हमारे क्षेत्र में सुरक्षा परिदृश्य यह बताता है कि हमारे सशस्त्र बल हर समय तैयार और सतर्क रहते हैं। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर जो हुआ वह एक छोटी सी तस्वीर है। हम छोटे नोटिस पर इससे भी अधिक को संभालने को तैयार हैं।

शांति से हल किया जाए

उसके बाद उन्होंने कहा कि सैन्य वार्ता के दौरान समझौतों के बाद अस्वीकार्य चीनी कार्रवाई और जान माल की हानि के बावजूद, यह सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास चल रहे हैं कि LAC में मौजूदा स्थिति को शांति से हल किया जाए।

बता दें कि पिछले कुछ दिनों पहले लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हुई खूनी झड़प से भारत और चीन के बीच संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं। लद्दाख के गलवन में 15 जून को भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई। इस दौरान हमारे देश के 20 जवान शहीद हो गए। वहीं, ऐसे में वायु सेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने भी लेह और श्रीनगर के एयरबेस की समीक्षा की। वह 17 और 18 दो दिनों के दौर पर थे।

सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया था कि वायु सेना प्रमुख दो दिवसीय यात्रा पर थे, जहां उन्होंने पूर्वी लद्दाख में LAC के साथ चीनी आक्रमण के मद्देनजर उन सभी प्लेटफार्मों की परिचालन तत्परता की जांच की, जहां 10,000 से अधिक सैनिकों को चीन द्वारा एकत्र किया गया है।

सूत्रों ने बताया था कि अपनी यात्रा के पहले दिन चीफ 17 जून को लेह में थे और वहां से वे 18 जून को श्रीनगर एयरबेस गए थे। ये दोनों ठिकाने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र के सबसे करीब हैं और पहाड़ी इलाके में किसी भी लड़ाकू विमान के संचालन के लिए सबसे अनुकूल हैं और चीनी पर भी स्पष्ट नजर रखते हैं।