ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
एक दिन पहले लापता हुई 3 साल की नाबालिग की हत्या  
September 3, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश


सिंगाही। इलाके के एक गांव में एक दिन पहले लापता हुई तीन साल की बालिका की हत्या कर शव गन्ने के खेत में  फेंक दिया गया । बालिका के  सिर और गले पर चोट के निशान मिले हैं। घटना की सूचना मिलते ही सी ओ के नेतृत्व में पहुंची पुलिस टीम ने शव को लेकर थाने भिजवा दिया है। परिजनों ने गांव के ही एक व्यक्ति पर अगवा कर हत्या करने का मामला दर्ज कराया है। जानकारी मिलने के बाद पहुंचे एस पी ने मौके का मुआयना कर जल्द आरोपी की गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। 
थाना क्षेत्र के एक गांव की तीन साल की बालिका सृष्टि 3 साल शुक्रवार  को सुबह दस से खेलते-खेलते लापता हो गई थी। इसके बाद से घर व गांव के लोग के आस-पास उसकी तलाश कर रहे थे। गुरूवार को तलाशी के दौरान तलाश हुए परिवार और गांव के लोग मटहिया-नौबना रोड से करीब दो सौ मीटर पश्चिम निर्मल सिंह खेत में पहुंचे तो मेड़ से दस मीटर अंदर बालिका का शव पड़ा मिल गया। शव मिलते ही तलाश कर रहे परिजनों ने 100 नंबर पर घटना की सूचना दी। जिस पर 2900 पीआरबी के पुलिस कर्मियों मौके पर पहुंचकर घटना से उच्च अधिकारियों को अवगत कराया। इसके बाद सी ओ प्रदीप वर्मा व एस ओ प्रदीप सिंह ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर थाने ले जाकर पंचायत नाम कर पोस्ट मार्टम के लिए जिला मुख्यालय भेज दिया है। बालिका के पिता राजेश ने गांव के लेखराम पर रंजिशन अगवा कर हत्या करने का मामला दर्ज कराया है। वहीं घटना की जानकारी बाद एस पी सत्येन्द्र सिंह ने घटना स्थल कर आरोपी की गिरफ्तारी जल्द किए जाने के निर्देश सिंगाही पुलिस को दिए हैं।
सिंगाही गांव मटहिया में मासूम की हत्या के मामले में सिंगाही पुलिस संजीदा नहीं दिखी। सूचना के दो घंटे बाद घटना स्थल पर पहुंची और वहां पर मौजूद रूमाल और चप्पल को भी कब्जे में नहीं लिया। घटना के करीब तीन घंटे बाद एसपी सतेंद्र कुमार पहुंच गए। वहां पर उन्होंने देखा कि पुलिस बैरकेटिंग नहीं की गई थी। और न ही शव के पास पडे चप्पल और रूमाल पुलिस ने कब्जे में लिया था। इस पर वह भडक गए और एसओ को जमकर फटकार लगाई। कस्बे से करीब आठ किलामीटर दूर होने के बाद भी वहां पर पुलिस का एक भी जवान दो घांटे तक नहीं पहुंच सके। राजेश के बडे भाई नरेश का आरोप है कि पीआरवी जवानों के अलावा थाने का एक भी सिपाही नहीं पहुंचा।