ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
दिल्ली-एनसीआर में लोगों को वायु प्रदूषण से मिलेगी निजात, पराली की प्लाई करेगी कमाल
October 17, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

भोपाल। पराली की समस्या का एक बेहतर समाधान सामने आया है। पराली, गेहूं व सोयाबीन के भूसे से अब प्लाई बनाई जा सकेगी। इसे बनाने में कच्चे माल के तौर पर पराली, भूसा या अन्य कृषि अपशिष्ट का 70 फीसद हिस्सा और 30 फीसद पॉलीमर (रासायनिक पदार्थ) मिलाया जाएगा। भोपाल स्थित काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्टि्रयल रिसर्च (सीएसआइआर)-एम्प्री (एडवांस मटेरियल्स एंड प्रोसेस रिसर्च) ने तीन साल के प्रयास के बाद यह तकनीक विकसित की है। शुक्रवार को इस तकनीक के जरिये उत्पादन शुरू करने का लाइसेंस भी छत्तीसगढ़ के भिलाई स्थित शुभ ग्रीन शीट प्रा.लि. कंपनी को दिया गया। कंपनी 10 करोड़ रुपये की लागत से मार्च, 2021 से उत्पादन शुरू करने की तैयारी में है।  

चार गुना मजबूती का दावा, सस्ती भी पड़ेगी

 

एम्प्री के डायरेक्टर डॉ. अवनीश कुमार श्रीवास्तव का दावा है कि उनकी जानकारी में देश की यह पहली तकनीक है। इसे यूएसए, कनाडा, चीन, फ्रांस, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन समेत आठ देशों से पेटेंट मिल चुका है। कृषि अपशिष्ट से बनने वाली प्लाई बाजार में उपलब्ध प्लाई से चार गुना ज्यादा मजबूत होगी और सस्ती भी पड़ेगी। करीब 20 साल तक इसमें कोई खराबी नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि इस तकनीक से कच्चा माल व मजबूती देने वाले तत्व अलग-अलग मात्रा में मिलाकर अलग दबाव में विभिन्न गुणवत्ता की प्लाई तैयार की जा सकेगी।

पुरानी या खराब प्लाई को रिसाइकिल कर दोबारा उसी तरह का उत्पाद बनाया जा सकता है

रिसाइकिल भी की जा सकेगी।   यह तकनीक विकसित करने में अहम भूमिका निभाने वाले मुख्य वैज्ञानिक डॉ. असोकन पप्पू ने बताया कि पुरानी या खराब प्लाई को रिसाइकिल कर दोबारा उसी तरह का उत्पाद बनाया जा सकता है। उन्होंने दावा किया कि इसमें आग, पानी, नमी, दीमक व फंगस का कोई असर नहीं होगा। लेमिनेटेड और गैर लेमिनेटेड दोनों तरह की प्लाई बनाई जा सकेगी। डॉ. असोकन के मुताबिक मौजूदा स्थितियों के मुताबिक अलग-अलग गुणवत्ता की यह प्लाई बाजार में 26 से 46 रुपये प्रति वर्गफीट तक में मिल सकेगी। बाजार में मौजूद प्लाई इससे दस रुपये महंगी ही मिलती हैं।