ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
दस करोड़ की ऑनलाइन ठगी करने वाले बंटी-बबली पकड़ें, मध्यप्रदेश क्राइम ब्रांच ने नोएडा में खोले राज
September 12, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

भोपाल, । मध्यप्रदेश क्राइम ब्रांच की साइबर विंग ने गूगल पर लोन का विज्ञापन देकर देश भर में लगभग दस करोड़ रुपये तक की ऑनलाइन ठगी का पर्दाफाश किया है। बंटी-बबली फिल्म की तर्ज पर धोखाधड़ी कर रहे इस गिरोह के मुखिया उसकी मंगेतर और साली को नोएडा से गिरफ्तार किया गया है। एक आरोपित फरार है।

एडीजी उपेंद्र जैन ने शुक्रवार को बताया कि जनवरी 2020 में पद्मेश सिंह ने क्राइम ब्रांच में शिकायत दर्ज कराई थी। उसमें बताया कि दिसंबर 2019 में एक वेबसाइट स्विफ्ट फाइनेंस द्वारा पर्सनल लोन का झांसा देकर उनके साथ धोखाधड़ी की गई है। मामले की जांच के दौरान मिले साक्ष्यों के आधार पर साइबर विंग की टीम नोएडा (उप्र) पहुंची। वहां से डेविड कुमार जाटव (21), मनीषा भट्ट (27) और मनीषा की बहन नेहा (23) को गिरफ्तार कर लिया। आरोपितों के पास से 6 लैपटॉप, 25 मोबाइल फोन, 21 पेन ड्राइव, आठ सक्रिय सिम, 19 डेबिट कार्ड, 3 वेबसाइट्स के दस्तावेज, एक राउटर मय मोडेम, इंटरनेट कंवेटर और एक कार बरामद की गई है। जब्त सामग्री से मिली जानकारी के मुताबिक गिरोह ने दो वर्ष में लगभग दस हजार लोगों से दस करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की है।

ऐसे फंसाते थे शिकार

डीआइजी इरशाद वली के मुताबिक आरोपित फर्जी वेबसाइट तैयार करते थे। इन वेबसाइट का गूगल ऐड के माध्यम से प्रचार करते थे। लोन लेने के इच्छुक लोग अपनी पर्सनल जानकारी डालते थे। इसके बाद कंपनी के कॉल सेंटर से युवतियां ग्राहकों को फोन करती थीं। बातचीत के दौरान उपभोक्ता से प्रोसेसिंग फीस, सुरक्षा राशि, जीएसटी एवं वनटाइम ट्रांजेक्शन के नाम पर 30 से 40 हजार रुपये तक ठग लेते थे। इसके बाद फोन उठाना बंद कर देते और वेबसाइट भी बंद कर देते थे। एक वेबसाइट के जरिए ये लोग एक हजार से अधिक लोगों के साथ धोखाधड़ी करते थे। लोगों से पैसे हड़पने के लिए फर्जी बैंक खाते और फोन करने के लिए फर्जी नाम-पते से खरीदी सिम का उपयोग करते थे।