ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
चुनाव खत्म होते ही शादी-विवाह मे घटाई संख्या
November 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

चुनाव खत्म होते ही शादी-विवाह मे घटाई संख्या

(न्यूज़)।चुनाव खत्म होते ही सरकार को फिर  सताने लगा कोरोना का डर
शादी समारोह में अब 200 की जगह सम्मिलित  होगे  केवल 100 व्यक्ति देश के कुछ राज्यों में कोरोना का कहर एक बार फिर अपने पैर पसार रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में स्थिति भय से भयानक होती जा रही है, जिसका असर पूरे देश में देखने को मिल रहा है दिल्ली में कोरोना के मरीज अधिक पाए जाने के बाद दिल्ली की आप सरकार ने शादी विवाह समारोह में 200 की जगह केवल 50 व्यक्तियों के उपस्थित रहने का आदेश पारित किया है ।  इसके अतिरिक्त बिना मास्क  लगाए व्यक्तियों पर 500 के स्थान पर 2000 का जुर्माना कर दिया गया है।  दिल्ली सरकार का अनुसरण करते हुए अब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भी शादी समारोह में सम्मिलित होने वालों की संख्या 200 से घटाकर 100 कर दी है  और बिना मास्क लगाए व्यक्तियों पर ₹500 का जुर्माने का आदेश भी पारित किया गया है । आम जनता ने जहां बिना मास्क लगाये   व्यक्तियों पर जुर्माना क्रमशः  2000 व 500 किये जाने पर  सरकारों का  स्वागत किया है वही शादी समारोह में संख्या घटाने पर रोष प्रकट किया है।   गौरतलब है कि जब तक देश में बिहार चुनाव व अन्य कई राज्यों में उपचुनाव हुए और वहां बड़े-बड़े नेताओं की रैली में हजारों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित रहे तब सरकार को कोरोना  के फैलने का अंदेशा नहीं हुआ इतना ही नहीं बिहार चुनाव में जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी ने  नई दिल्ली स्थित भाजपा  मुख्यालय में धन्यवाद सभा रखी जिसमें देखा गया कि मुख्यालय के बाहर हजारों की संख्या में भाजपा कार्यकर्ता बिना सोशल डिस्टेंसिंग के साथ नारे लगा रहे थे लेकिन तब किसी ने भी ऐसी रोक नहीं लगाई,  लेकिन चुनाव खत्म होने के तुरंत बाद और शादी का सीजन शुरू होने से पहले ही शादी में उपस्थित लोगों की संख्या 200 से घटाकर 100 कर दी गई है, जिससे इस सीजन में शादी करने वाले व्यक्तियों को  परेशानी हो गई है , शादी समारोह के कार्ड बट चुके हैं और वह 200 व्यक्तियों के आधार पर ही अपनी तैयारी शुरू कर चुके हैं, शादी    के लिए मंडप बुक करा दिए गए हैं जिसमें अच्छा खासा एडवांस दे दिया गया है, 200 व्यक्तियों के खाने के लिए हलवाई बुक कर दिए गए हैं जिन्हें भी अच्छा खासा एडवांस दे दिया गया है और कार्ड भी बांट दिए गए हैं ऐसे में एक दम शादी समारोह में 200 से घटाकर  100 व्यक्ति उपस्थित रहने का फरमान सुनाना ऐसा लगता है कि जल्दबाजी में लिया गया है। जिन घरों में नवंबर में दिसंबर में शादी होनी है जब उनसे इस विषय में बात करी गई तो उन्होंने बताया कि कार्ड बांट दिए गए हैं, मंडपों को बुक करा दिए गए हैं अब ऐसे में बड़ी परेशानी होगी कि कैसे मेहमानों को आने से रोका जाए और यदि मंडप को कैंसिल किया जाता है तो मंडल स्वामियों के पास जो एडवांस दे रखा है वह वापस नहीं मिलेगा जिससे हमें आर्थिक कठिनाई उठानी पड़ेगी यदि सरकार के द्वारा शुरू में ही 200 की जगह 100 व्यक्तियों का आदेश होता तो हमें परेशानी नहीं होती, इसलिए सरकार सरकार को अपने इस फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए उन्होंने बताया कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए हमारी तरफ से पूरा प्रयास किया जाएगा ,सोशल डिस्टेंसिंग सैनिटाइजर वह मास्क आदि लगाने  कि जो सरकार की गाइडलाइन है उसका पालन किया जाएगा परंतु सरकार को इस आदेश पर पुनर्विचार  एक बार अवश्य करना चाहिए।