ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
चिराग पासवान के सुर ढीले पड़े
September 13, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

(न्यूज़)। विधानसभा चुनाव में अब ज्यादा समय नहीं बचा है। ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां अपने-अपने गठबंधन को मजबूत करने और सीट बटवारे में जुटी हुई हैं। लेकिन राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के बीच चल रही तनातनी को देखते हुए कयास लगाए जा रहे थे कि चिराग पासवान नीतीश के खिलाफ मैदान में अपने उम्मीदवार उतार सकते हैं। लेकिन एबीपी न्यूज़ को दिये एक इंटरव्यू में एलजेपी चीफ ने कहा है कि वे वही करेंगे जो भारतीय जनता पार्टी उनसे करने के लिए कहेगी।
अवसरवादी राजनीति का ठप्पा लगवा चुकी एलजेपी ने पिछले कुछ हफ्तों में हर तरह से जेडीयू पर दवाब बनाने की कोशिश की। लेकिन उनके तेवर को न तो बीजेपी ने कोई तवज्जो दी ना ही जेडीयू ने। ऐसे में पासवान के इस बयान से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि वे सुलह के लिए तैयार हैं। चिराग ने कहा कि दवाब की राजनीति करना मेरी आदत नहीं है। जो गलत है उसके खिलाफ मैं बोलूँगा। एलजेपी चीफ ने कहा कि अभी गठबंधन के भीतर अभी कोई बातचीत नहीं हुई है ऐसे में सार्वजनिक तौर पर कुछ भी बोलना सही नहीं होगा।
नीतीश कुमार के नेतृत्व में चुनाव लड़ना चाहते हैं या नहीं यह सवाल पूछे जाने पर चिराग ने मुसकुराते हुए कहा “बीजेपी ने उनके नेतृत्व को स्वीकारा है। हमेशा मैंने कहा है बीजेपी जो कहेगी वही हम करेंगे। मैं भारतीय जनता पार्टी के साथ हूं।” चिराग ने कहा “पीएम के नेतृत्व पर विश्वास कर के एलजेपी एनडीए का हिस्सा बनी थी औए मेरा वो विश्वास आज भी है।
गौरतलब है कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा दो दिवसीय बिहार दौरे पर हैं। इस दौरान नड्डा ने सीएम नीतीश कुमार से मुलाक़ात की और विधानसभा चुनाव को लेकर सीट शेयरिंग और चुनावी रणनीति पर भी चर्चा की। सूत्रों का कहना है कि इस दौरान दोनों नेताओं ने एलजेपी की नाराजगी दूर करने को लेकर भी बात की है।
वहीं इससे पहले लोजपा के संस्थापक राम विलास पासवान ने  कहा था कि उनकी पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान इस विषय में जो कुछ फैसला लेंगे, उसमें वह उनके साथ मजबूती से खड़े हैं। ऐसे में पासवान के ट्वीट से यह साफ हो गया था कि वे चिराग के फैसले के खिलाफ नहीं जाएंगे। ऐसे में चुनाव से पहले गठबंधन को लेकर चिराग जो भी फैसला लेंगे वही आखिरी फैसला माना जाएगा।