ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
चीन की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करने के बाद भारतीय सेना ने LAC पर बदली पोजीशन
September 3, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली। भारतीय सेना ने लद्दाख में 1597 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सीमा को सुरक्षित करने के लिए अपनाी पोजीशन बदल ली है। इस मामले की की जानकारी रखने वाले व्यक्ति ने कहा चुशुल सेक्टर में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की घुसपैठ की कोशिश के बाद सैनिकों ने अपने पोजिशन को पहले से और मजबूत कर लिया है। आपको बता दें कि पीएलए वायु सेना की गतिविधि कब्जे वाले अक्साई चिन क्षेत्र में बढ़ गई है। 

एक अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेना अब लद्दाख के संवेदनशील इलाकों में किसी भी चीनी पीएलए परिवर्तन को पूर्व-खाली करने के लिए एक सुरक्षित सीमा मोड में है।'' एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेनाओं का स्थान परिवर्तन चीनी आक्रमण को ध्यान में रखने और यह सुनिश्चित करने के लिए किया गया है कि सभी पोस्ट का बचाव किया जाए।

भारतीय सेना ने 1962 के युद्ध के बाद चीन का मुकाबला करने के लिए उठाए गए विशेष फ्रंटियर फोर्स जैसे अतिरिक्त विशेष बलों को तैनात करके सेक्टर में पीएलए के सैनिकों की बढ़ोतरी के जवाब में किया है। SFF सैनिकों ने चीनी PLA को हटाने में मुख्य भूमिका निभाई थी, जिसने पांच दिन पहले पैंगोंग त्सो के दक्षिणी तट पर भारतीय क्षेत्र को हथियाने की कोशिश की थी। तब से भारतीय सैनिकों ने दक्षिणी बैंक पर प्रमुख ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया है।

भारतीय सेना ने डेमसांग के मैदान में एक युद्ध समूह (बख्तरबंद और मशीनीकृत तत्वों का मिश्रण) तैनात करके एक विशेष पहल की है, जो चूमर में पीएलए को संकेत देने के लिए एक अन्य लड़ाकू समूह से मेल खाता है।

वहीं, पीएलए जनरल सेक्रेटरी शी जिनपिंग का आरोप है कि भारतीय सेना ने सीमा की स्थिति को बदला है। उनका कहना है कि चीन घुसपैठ के कोई प्रयास नहीं किया है। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, "पीएलए को घुसपैठ से कोई लाभ नहीं होने वाला है। क्योंकि वह साल भर 3,488 किलोमीटर की एलएसी सैनिकों को तैनाती नहीं कर कर सकता है।"

हालांकि, सैन्य और राजनयिक बातचीत जारी हैं, लेकिन भारतीय सेना के जवान मौके के लिए कुछ नहीं छोड़ रहे हैं और सबसे खराब स्थिति के लिए तैयार हैं।