ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
चार अवैध नलकूप पकड़कर लाखों में सेटिंग कर छोड़ा
October 18, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

चार अवैध नलकूप पकड़कर लाखों में सेटिंग कर छोड़ा

बिजली विभाग को बेचने में लगा अवर अभियंता

ट्रांसफार्मर सहित पकड़ा गया पूरा सामान किया अवैध कनेक्शनधारियो को वापस

फतेहपुर।बिजली विभाग के कर्मियों के कारनामे शायद ही किसी से छुपे हों। इस विभाग में भ्रष्ट लोगों की इतनी लंबी कतार है कि शायद ऊर्जा मंत्री इस कतार के अंत तक पहुंच ही न पाएं। इस विभाग में काम न करने का वेतन और काम करने की रिश्वत अधिकतर कर्मियों द्वारा ली जाती है। हालांकि ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा की सख्ती से विद्युत विभाग में बड़ा बदलाव है। विभाग घाटे से काफी हद तक उबर चुका है। मगर फ़तेहपुर जनपद में अभी भी कुछ ऐसे कर्मी है जो विभाग को ही बेचने पर तुले हैं।
  बता दें कि मामला विद्युत विभाग के एक ऐसे भ्रष्ट अवर अभियंता का है जिसको सरकार से अच्छा खासा वेतन विभाग का काम करने को मिलता है। मगर यह रिश्वत के आगे विभाग को भी बेचने पर तुला है। इसकी छत्रछाया से इसके क्षेत्र के विद्युत चोरी करने वाले गुलजार हैं। यह क्षेत्र में अवैध कनेक्शनों की चेकिंग कर, फिर एफआईआर की धमकी देकर लाखों रुपया लेकर उन्हें छोड़ देता है। फिर महीनवारी तय करके कई टियूबबेल के फर्जी कनेक्शन अपने संरक्षण में चलवाता है। सरकार और सरकारी सामान को अपनी जागीर समझने वाले इस अवर अभियंता की करतूत के दर्जनों वीडियो लोगों के पास मौजूद हैं। जब यह खुलेआम भ्रष्टाचार को अंजाम दे रहा है। बिजली विभाग इसी तरह के भ्रष्ट अवर अभियंताओ की वजह से ही घाटे पर चल रहा है।
आपको बता दें कि मामला चौडगरा पॉवर हॉउस क्षेत्र के भाऊपुर का है। यहां अवर अभियंता कल्लूराम यादव की तैनाती है यह क्षेत्र में वसूली के नाम पर कुख्यात है। इसने हाल ही में अपनी टीम के साथ भाऊपुर गांव में छापा मारा। फिर अवैध रूप से ज़मीन पर रखे ट्रांसफार्मर में कटिया लगाकर बिजली चोरी करते हुए एक नही चार बिजली चोरो को रंगे हाथों पकड़ा और ट्रांसफार्मर सहित सारा सामान अपनी गाड़ी में लदवाकर उठा भी लाया। साथ ही बिजली चोरी के इस घटनाक्रम की वीडियो ग्राफी करवा कर उसकी सीडी भी बनवाई। उसके बाद बिजली चोरी की एफआईआर दर्ज कराने के लिए प्रार्थना पत्र में चार लोगो बाबू पांडेय, कुंजबिहारी द्विवेदी, बाबू दुबे, अम्बेलाल निवासी भाऊपुर को नामजद भी किया। फिर प्रार्थना पत्र में नामजदगी व सीडी दिखाकर आरोपियों से लाखों रुपये में कार्रवाई न करने के एवज में मामला सेट किया। मामला सेट होते ही उक्त अवर अभियंता ने  बिना कार्रवाई किये सीडी तोड़ डाली और लिफाफे में बन्द प्रार्थना पत्र को फाड़कर बिजली चोरो को ट्रांसफार्मर सहित सारा सामान वापस कर दिया। जबकि इनके छापा मारने से लेकर वीडियो ग्राफी करवाने, लाइन व ट्रांसफार्मर मौके से गाड़ी में लादकर ले जाने व एफआईआर के लिए अवर अभियंता द्वारा बनाए गए प्रार्थना पत्र की कॉपी भी मौजूद है।इतने बड़े भ्रष्टाचार पर भी बिजली विभाग के जिम्मेदार कोई ठोस कार्रवाई न कर विभाग की पोल खुलने के डर से मामले से जवाब न देकर पल्ला झाड़ रहे हैं।
 इस सम्बंध में हमने अधीक्षण अभियंता आनन्द प्रकाश से बात करनी चाही तो कार्यवाई करने के नाम पर सारे साक्ष्य व्हाट्सएप के ज़रिए अपने मोबाइल में ले लिये और अपने अधीनस्थ अवर अभियंता कल्लूराम यादव के कारनामो पर पर्दा डालने का भरसक प्रयास करते हुए कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।