ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
बिकरू कांड में गोलियां चलाने वाला छोटू शुक्ला लापता
September 4, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

पुलिस को नहीं पता असली नाम

(न्यूज )।बिकरू कांड में पुलिस अधिकारियों का यह दावा है कि उन्होंने एफआईआर में नामजद और विवेचना के दौरान जिनके नाम प्रकाश में आए उन सभी लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, मगर अभी भी एफआईआर में नामजद एक आरोपित लापता है। न वह गिरफ्तार हुआ है, न ही उसने सरेंडर किया है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि पुलिस को उसका असली नाम तक नहीं पता। 
2 जुलाई को जब बिकरू में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या की गई थी। उसके बाद पुलिस ने मुठभेड़ और हत्या को लेकर एक एफआईआर चौबेपुर थाने में दर्ज कराई थी। इसमें छोटू शुक्ला नाम का एक आरोपित बनाया गया था।
एफआईआर में नामजद आरोपित या तो एनकाउंटर में मारे गए या फिर गिरफ्तार किए गए। कुछ आरोपितों ने कोर्ट में सरेंडर भी कर दिया। मगर छोटू शुक्ला का कुछ पता नहीं चला। न उसे गिरफ्तार किया जा सका है और न ही उसने सरेंडर किया। यहां तक के पुलिस को उसका असली नाम तक नहीं पता। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, ऐसा आरोपित है तो उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा। अधिकारियों का कहना है कि सम्भव है कि गिरफ्तार आरोपितों में ही किसी का नाम छोटू हो। 

*पूर्व एसओ के कारखास का भी पता नहीं*

इस मामले में जेल गए पूर्व एसओ विनय तिवारी के साथ कारखास प्राइवेट कर्मी विकास यादव भी घटना के समय बिकरू में मौजूद था। वह ही एसओ की गाड़ी चलाकर गया था। इस कारखास के बारे में भी पुलिस के पास जानकारी नहीं। वह घटना में घायल भी हुआ था। उसके बाद इसके बयान आदि लिए गए की नहीं, इस बारे में किसी के पास कोई जानकारी नहीं है।