ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
भू माफियाओं को नहीं है कानून का दर ध्वस्त किया गरीब का आशियाना
August 1, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

चौडगरा पुलिस चौकी के सामने का मामला


बिन्दकी/फतेहपुर... वर्तमान समय में भू माफियाओं को खाकी और खादी का संरक्षण मिलने के चलते उनके हौसले बुलंद हैं और वह किसी भी जमीन को कब्जा करने में नहीं हिचकिचा रहे हैं प्रदेश एवं जिले के मुखिया कानून व्यवस्था के चाहे जितनी भी डीगें मारे परंतु वास्तविकता यह है कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज चल रहा है आम आदमी का जीना दुश्वार है यह मामला फतेहपुर जिले के कल्याणपुर थाना क्षेत्र के चौडगरा कस्बे की है ।कस्बे के निवासी राजेंद्र प्रसाद तिवारी पुत्र नर्वदा प्रसाद तिवारी के मकान को दबंगों द्वारा जमींदोज कर दिया गया है ।
प्राप्त जानकारी के अनुसार राजेंद्र प्रसाद तिवारी पुत्र नर्मदा प्रसाद तिवारी निवासी चौडगरा फतेहपुर ने बताया कि पत्नी की तबीयत अधिक खराब होने के कारण इलाज कराने हेतु 2 दिन घर से बाहर था । और  उक्त घर गाटा संख्या 227 पर स्थित है मकान के स्वामित्व का मुकदमा सिविल जज जूनियर डिविजन फतेहपुर की अदालत में मुकदमा सन 2016 से एम .जी. डेवलपमेंट के साझेदार मनोज कुमार गुप्ता पुत्र हनुमान दास गुप्ता निवासी आनंद पुरम कॉलोनी मोहल्ला हरिहरगंज थाना कोतवाली फतेहपुर के मध्य और मेरी पत्नी उषा देवी के नाम चल रहा है मनोज गुप्ता से सांठगांठ करके राजेंद्र सिंह उर्फ लालू सिंह पुत्र यशवंत सिंह व ज्ञानेंद्र सिंह पुत्र रामप्रकाश सिंह निवासी हरिसिंह पुर थाना कल्याणपुर फतेहपुर ने असलहों से लैस होकर प्रार्थी का घरेलू सामान दैनिक दिनचर्या में उपयोग में होने वाला सभी कुछ घर में भरा पड़ा था प्रार्थी की अनुपस्थित में  प्रतिवादी गण मनोज गुप्ता ने क्षेत्रीय दबंग एवं अपराधी किस्म के राजेंद्र उर्फ लालू सिंह पुत्र यशवंत सिंह व ज्ञानेंद्र सिंह पुत्र रामप्रकाश सिंह निवासी हरसिंहपुर थाना कल्याणपुर फतेहपुर से मिलीभगत करके रात्रि के समय दबंगों ने जेसीबी मशीन से ध्वस्त करवा दिया सूचना मिलने पर प्रार्थी राजेंद्र प्रसाद तिवारी मौके पर पहुंचे तो उपरोक्त लोगों ने भद्दी भद्दी गालियां व धमकाते हुए कहा कि भाग जाओ नहीं तो गोलियों से भून दूंगा तब प्रार्थी ने बताया कि मैं दहशत के मारे मौके से भाग आया और घर में बेहोशी की हालत में पड़ा रहा कुछ लोगों की हिम्मत बंधाने के बाद थाना कल्याणपुर में प्राथमिकी दर्ज कराने के उद्देश्य गया जहां मौजूद पुलिस अधिकारी ने प्रार्थना पत्र लेकर रख लिया परंतु 2 दिन व्यतीत हो जाने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं हुआ और बताया कि मैं पूरी तरीके से बर्बाद हो गया हूं अगर मुझे न्याय नहीं मिलता है तो आत्मदाह करने को मजबूर होऊंगा  जिसकी सारी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी आप सोचने वाली बात यह है कि योगी सरकार में क्या गरीब लोग ऐसे ही परेशान किए जाएंगे उनका आशियाना ऐसे ही ध्वस्त करके कब्जा किया जाएगा वैसे भी कोरोना के चलते गरीब लोग खाने को मोहताज हैं लेकिन इसके बावजूद अपराधी  दबंगई से  गरीबों का खून चूसने में व्यस्त दिखाई पड़ रहे हैं ।