ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
भारत चीन के बीच पूर्वी  लद्दाख चल रहे तनाव को कम करने की कोशिशें तेज
August 20, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

नई दिल्ली। भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में चल रहे तनाव को कम करने की कोशिशें तेज हो गई हैं, इसी कड़ी में आज भारत-चीन सीमा मामलों  की परामर्श एवं समन्वय समिति  की बैठक हो रही है. इस बैठक में पूर्वी लद्दाख के एलएसी  से चीनी सैनिकों को पीछे हटने और सैन्य बलों के बीच तनाव को कम करने पर बातचीत होगी. इस बीच खबर है कि चीन ने लिपुलेख के पास अपनी सैन्य तैनाती बढ़ा दी है. जो भारत के लिए चिंताजनक बात है।

डब्ल्यूएमसीसी की 17वीं बैठक पिछले महीने ही हुई थी, जिसमें दोनों देशों के सैनिकों को आमने-सामने की तैनाती से हटाने पर सहमति बनी थी। इस बैठक में एलएसी से दोनों देशों की सेनाओं को पीछे किया जाना था और शांति बहाल करते हुए दोनों देशों के बीच संबंधों को बेहतर बनाया जाना था।

डब्ल्यूएमसीसी की बैठक में दोनों देशों के सचिव स्तर के अधिकारी शामिल होते हैं और बातचीत की अगुवाई करते हैं हालांकि पिछली बातचीत में सहमति देने के बाद भी चीन ने फिंगर एरिया  देपसांग और गोगरा से अपने सैनिकों को नहीं हटाया है. फिंगर एरिया में पिछले 3 महीनों से चीनी सैनिक डटे हुए हैं और इस बीच चीनी सैनिकों ने स्थाई निर्माण भी कर लिए हैं, जिसमें बंकर बनाना भी शामिल है। 

भारत ने कहा है कि चीन को एलएसी से सैनिकों के जमावड़े को हटाना होगा, और इलाके में शांति स्थापित तभी हो सकती है, जब पूर्वी लद्दाख के एलएसी से चीनी सेना पीछे हटे और डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया पूरी हो।