ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
भारत और रूस के बीच बंगाल की खाड़ी में नौसैनिक इंद्र युद्धाभ्यास चार और पांच को
September 2, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली,  भारत और रूस मौजूदा सुरक्षा चुनौतियों से निपटने की तैयारी की ओर अग्रसर हैं। दोनों देशों की नौसेनाएं बंगाल की खाड़ी में चार और पांच सितंबर को 'इंद्र युद्धाभ्यास' करेंगी। इस बीच, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी बुधवार को शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अहम बैठक में शामिल होने के लिए रूस जा रहे हैं। वह चार को बैठक में शामिल होने के बाद पांच तारीख को भारत वापस लौटेंगे।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि भारत और रूस की नौसेना के बीच ऐसे समय में युद्धाभ्यास होने वाला है जब सीमा विवाद को लेकर भारत और चीन के बीच तनाव अपने चरम पर है। इस युद्धाभ्यास के दौरान सतह और हवा में लक्ष्य को भेदने के साथ ही चीनी नौसेना की गतिविधियों में इजाफे को देखते हुए भारतीय नौसेना ने भी हिंद महासागर में अपनी उपस्थिति दर्ज करानी शुरू कर दी है।

बंगाल की खाड़ी में हंबनटोटा से मलक्का स्ट्रेट्स तक रूसी नौसेना के जहाजों के गुजरने के दौरान दोनों देशों की नौसेना (INDRA NAVY 2020) 4-5 सितंबर 2020 को पासेक्‍स (PASSEX) के रूप में अभ्‍यास करेंगी। इंद्र युद्धाभ्यास वर्ष 2005 से भारत और रूस की सेनाओं के बीच होता आ रहा है। 2017 के बाद से दो वर्षों में एक बार संयुक्त रूप से तीनों सेना का अभ्यास इंद्र (INDRA) आयोजित किया जा रहा है।

दोनों देशों की नौसेना (INDRA NAVY 2020) पहले व्लादिवोस्तोक (रूस) में अभ्‍यास करने वाली थीं लेकिन कोविड 19 के कारण इसे स्थगित कर दिया गया है। इसके बजाय रूसी नौसेना ने दो नावों के बीच निरंतरता को बनाए रखने के लिए बिना संपर्क में आए समुद्र में अकेले यात्रा अभ्‍यास आयोजित करने का प्रस्ताव रखा है। इसी अहम समय में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस जा रहे हैं। वह वहां चार सितंबर को शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में शामिल होंगे।

इस संगठन में भारत और रूस के अलावा चीन भी सदस्य है। सिंह पांच सितंबर की शाम को मास्को से वापस लौटेंगे। इस बैठक में चीन के रक्षा मंत्री जरनल वेन फेंघे भी शामिल हो सकते हैं। विगत जुलाई में भारतीय नौसेना ने हिंदमहासागर में अमेरिकी नौसेना की परमाणु हथियारों से लैस युद्धपोतों के साथ भी जमकर युद्धाभ्यास किया था।