ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
बौद्धिक क्षमता में 20 साल की उम्र से तेजी से बढ़ोतरी होती है और 35 साल की उम्र में यह पहुंच जाती है चरम पर
October 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

बौद्धिक क्षमता में 20 साल की उम्र से तेजी से बढ़ोतरी होती है और 35 साल की उम्र में यह पहुंच जाती है चरम पर

(न्यूज़)।35 साल की उम्र में इंसान का दिमाग सबसे तेज होता है और इसी समय दिमाग की बौद्धिक कार्यक्षमता अपने चरम पर पहुंच जाती है।एक हालिया शोध में यह खुलासा किया गया है।शोध के अनुसार 45 साल की उम्र के बाद इंसान की दिमागी क्षमता में कमी आने लगती है।लुडविग मैक्सिमिलियान यूनिवर्सिटी ऑफ म्यूनिच के शोधकर्ताओं ने पिछले 130 सालों में हजारों शतरंज के खेलों का अध्ययन किया और देखा कि उम्र के साथ दिमाग की बौद्धिक क्षमता में बढ़ोतरी होती है या नहीं।उन्होंने पाया कि इंसान के बौद्धिक प्रदर्शन में पूरे जीवनभर में एक बार तेजी से ग्राफ चढ़ता है।अध्ययन के अनुसार बौद्धिक क्षमता में 20 साल की उम्र से तेजी से बढ़ोतरी होती है और 35 साल की उम्र में यह चरम पर पहुंच जाती है।इसके बाद 45 साल की उम्र में इसमें गिरावट होना शुरू हो जाता है।