ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
अमावस्या के दिन पितरों की पूजा की विधि व अमावस्या तिथि को किन चीजों का करें दान
September 15, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

 

अमावस्या के दिन प्रात: स्नान आदि से शुद्ध होकर सामर्थ्य के अनुसार अन्न,वस्त्र,सोना व गाय का दान करना चाहिए।इस दिन पितरों का श्राद्ध,ब्राह्मण-भोजन और भगवान के जप-ध्यान का बहुत पुण्य है।साथ ही पितरों का पूजन (श्राद्ध,तर्पण आदि) मनुष्य के जीवन में कृपा बरसाने वाला, सुख-शान्ति, धन-समृद्धि व पुत्र- पौत्र देने वाला होता है।प्रत्येक महीने की अमावस्या को और विशेषकर सोमवती अमावस्या को अपने परिवार की सुख-शान्ति के लिए पितरों की पूजा करनी चाहिए।इसके लिए किसी शुद्ध स्थान पर जमीन में रोली से सतिया बनायें और फिर उस पर जल व रोली के छींटे लगाकर पुष्प चढ़ा दें।कुछ मिठाई व दक्षिणा चढ़ावें और नमस्कार करें।इसके बाद एक ब्राह्मण दम्पति को भोजन करा कर तिलक करें व दक्षिणा देकर विदा करें।इस तरह पूजा करने से पितृगण प्रसन्न होते हैं।