ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
आत्मनिर्भर भारत की भेंट चढ़ा एक और बेरोजगार, बेरोजगारी के चलते मौत को लगाया गले
October 6, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

आत्मनिर्भर भारत की भेंट चढ़ा एक और बेरोजगार, बेरोजगारी के चलते मौत को लगाया गले

फतेहपुर।कल्याणपुर थाना क्षेत्र के ग्राम चंदनपुर, ग्राम सभा गुनीर,ब्लॉक मलवां में आज एक युवक ने बेरोजगारी के चलते लगाया मौत को गले। बताते चलें कि युवक पिछले 6 माह से मानसिक प्रताड़ना का शिकार हो चुका था। जो की पूरी तरह एक गहरे सदमे में जा चुका था।
चंदन पुर निवासी मंगल सविता उम्र लगभग 38 वर्ष दिहाड़ी मजदूरी करके किसी तरह अपने घर का लालन-पालन कर रहा था। परंतु लॉकडाउन के लग जाने के बाद मंगल को किसी भी प्रकार का रोजगार नहीं प्राप्त हुआ, एक कच्ची कोठरी में निवास करने वाला मंगल पूरी तरह सोच में डूबा रहता था। मंगल घर पर कभी पक्की छत भी नहीं डलवा पाया। एक बेटी जिसका हाल ही में कुछ दिन पहले विवाह हुआ था व परिवार में पत्नी पूरे परिवार की जिम्मेदारियों का बोझ उठाते उठाते वह थक चुका था। मंगल ने कई जगह काम करके पैसा कमाने की कोशिश की परंतु उसे कोई रोजगार नहीं लगा।
 वैसे तो उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बड़ी-बड़ी मुहिम चलाई जा रही हैं, लोगों को रोजगार देने की बड़ी-बड़ी बातें करती सरकार आज फिर एक बार नाकारा सी साबित हो रही है। मृतक की पत्नी शारदा देवी ने बताया की मेरे पति मंगल सविता बहुत ही मेहनत सील व्यक्ति थे परन्तु इस लॉक डाउन ने उनकी मानसिक स्थिति जरूर बिगाड़ दी थी जिस कारण दिन रात चिंता में डूबे रहते थे कि आखिर कल क्या खाना खाएंगे परंतु शायद एक गरीब की आवाज सरकार तक ना पहुंच सकी व मंगल सविता ने आत्महत्या करके अपनी जान दे दी। आत्महत्या की खबर सुनते ही पूरे परिवार में एक अजीब सा सन्नाटा सा छा गया शायद अब इस बात की भी बड़ी फिक्र हो गई की आगे घर कौन चलाएगा? अब सवाल यह उठता है की मंगल के घर की आर्थिक स्थिति अत्यंत दयनीय है! क्या सरकार उसके परिवार के लिए कुछ आर्थिक मदद की घोषणा कर सकती है या मंगल का परिवार आने वाले समय में सड़कों पर भीख मांगते नजर आएगा? यह एक चुनौतीपूर्ण स्थिति है।इस बारे में संवाददाता ने ग्राम प्रधान से संपर्क करने की कोशिश की परंतु कोई संपर्क स्थापित ना हो पाया।