ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
आलू ने लगाया अर्धशतक गरीब की थाली से धीरे धीरे होने लगा दूर
October 22, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

आलू ने लगाया अर्धशतक गरीब की थाली से धीरे धीरे होने लगा दूर

फतेहपुर।आलू ने लगाया अर्धशतक गरीब की थाली से धीरे-धीरे होने लगा दूर जनता परेशान मचा बाजारों में हड़कंप
दिन प्रतिदिन बाजारों में सब्जी की कीमतों पर भारी उछाल देखने को मिल रहा है वही  हर घर की शान आलू अब लोगों से धीरे-धीरे दूर होने लगी है 5 से ₹10 किलो बिकने वाली आलू आज बाजारों में ₹50 किलो तक बिकने लगी है फुटकर विक्रेताओं को भले ही यह आलू 30 से ₹40 किलो मिलती हो मगर फुटकर विक्रेता बाजार में ग्राहकों को ₹50  किलो से कम नहीं दे रहे।
अचानक आई आलू पर इतनी महंगाई से बाजारों में हड़कंप मच गया है सब्जी खरीदने वाले लोग अब आलू से भी मुंह मोड़ते नजर आ रहे हैं मरता क्या न करता गरीब चारों तरफ से मारा जा रहा है वहीं जिन किसानों के पास में पिछली साल पर्याप्त आलू की पैदावार हुई थी उन्होंने अपना आलू कोल्ड स्टोर में रख दिया था अब जब दाम ऊंचे हो गए हैं तो धीरे-धीरे निकालकर बाजारों में इसे बेच रहे हैं आलू के दाम  आसमान पर पहुंच गए हैं
आलू की सब्जी के बिना रसोई अधूरी ही रहती है एक बार दाल ना मिले तो चलेगा मगर आलू की सब्जी ना मिले ऐसा हो नहीं सकता लोगों का पेट नहीं भरता बिना आलू की सब्जी के मगर आज लोग इसकी और देखना भी पसंद नहीं कर रहे करण क्योंकि इसके दाम इतने ज्यादा है कि अब इसको खरीदने से कत्ल आने लगे हैं आज तक कभी भी इतनी महंगाई बाजार में देखने को नहीं मिली खासकर आलू कभी भी ₹50 किलो तक नहीं बिका वह किसान जरूर खुश होंगे जिनके पास पर्याप्त मात्रा में बिक्री के लिए आलू कोल्ड स्टोर में रखा होगा मगर कहीं खुशी कहीं गम भी देखने को मिल रहा है अगर किसानों पर खुशी है तो उन खरीददारों पर बेहद निराशा देखने को मिल रही हैजो बेचारे दिन की मजदूरी करके मुश्किल से दो ढाई 100  रूपए कमाते हैं और शाम को जब बाजार में सब्जी खरीदने जाते हैं तो उनके सारे पैसे आलू में ही खर्च हो जाते हैं जल्द अगर आलू के दाम कम नहीं हुए तो गरीब परेशान और तबाह हो जाएंगे।