ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
आज NCB करेगी रिया चक्रवर्ती से पूछताछ, ड्रग मामले में होगी पेशी
September 6, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

मुंबई,  अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग्स एंगल से जांच कर रही नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की टीम आज रिया चक्रवर्ती से पूछताछ करेगी। एनसीबी के उप निदेशक अमित फक्कड़ घवाटे ने कहा है कि रिया से क्रॉस क्वैशचनिंग होगी। जांच एजेंसी की टीम ने रिया के घर पहुंचकर समन जारी किया। इस दौरान मुंबई पुलिस भी वहां मौजूद रही। एनसीबी के संयुक्त निदेशक, समीर वानखेड़े ने कहा कि रिया को समन जारी करके आज जांच में शामिल होने के लिए कहा गया है।

एनसीबी ने मामले में शनिवार को सुशांत के निजी कर्मचारी दीपेश सावंत को गिरफ्तार किया था। उसे आज अब्दुल बासित परिहार के साथ कोर्ट में पेश किया गया है। इससे पहले उसकी मेडिकल जांच हुई। मामले में अब तक कुल सात लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। एनसीबी ने कहा कि सावंत को शनिवार को रात करीब 8 बजे नार्कोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है। उसका बयान पर्याप्त सबूत के आधार पर एनडीपीएस अधिनियम की धारा 67 के तहत दर्ज किया गया।

मिरांडा की तरह ड्रग्स खरीदता था सावंत

एनसीबी के अनुसार कथित तौर पर सैमुअल मिरांडा की तरह सावंत ड्रग्स खरीदता था। एजेंसी ने शुक्रवार को रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती और सुशांत का मैनेजर सैमुअल मिरांडा को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार किए गए सात लोगों में से तीन शौविक, मिरांडा और  जैद विलात्रा  एनसीबी की हिरासत में हैं।

शौविक एवं सैमुअल के पास से एनसीबी को नशीले पदार्थ की बरामदगी नहीं हुई

हालांकि, शौविक एवं सैमुअल के पास से एनसीबी को नशीले पदार्थ की बरामदगी नहीं हुई है, लेकिन पहले की वाट्सएप चैट एवं ड्रग्स खरीदने में क्रेडिट कार्ड के उपयोग ने एनसीबी को उनके खिलाफ कई अहम सुबूत दे दिए हैं। एनसीबी को शौविक के लैपटॉप एवं मोबाइल से कई बॉलीवुड हस्तियों के नंबर मिलने की बात भी सामने आ रही है। भविष्य में इनकी जांच की जा सकती है। एनसीबी ने अपने रिमांड आवेदन में लिखा भी है कि वह सुशांत सिंह राजपूत मामले में ड्रग्स के कोण की जांच कर रही है। इस मामले में अब तक सामने आए कई जाने-अनजाने नामों से पूछताछ की जानी है, ताकि मामले की तह तक पहुंचा जा सके।