ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
70 साल के हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जानिए बतौर PM लिए गए उनके 10 अहम फैसले
September 17, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

नई दिल्ली,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 70वा जन्मदिन है। प्रधानमंत्री के तौर पर उनकी कई ऐसी उपलब्धियां हैं जो सीधे तौर पर उनकी मजबूत इच्छाशक्ति को दिखाती है। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 को खत्म करना हो या फिर पाकिस्तान को उसी के घर में घुसकर जवाब देना, पीएम मोदी के इन फैसलों की गूंज देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में सुनाई दी। ये मोदी सरकार की इच्छाशक्ति ही थी कि उसने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेश में बांट दिया। इतना ही नहीं, राम मंदिर को लेकर दशकों से चले आ रहे विवाद का भी पीएम मोदी के कार्यकाल में ही समाधान निकला। इसके अलावा उनके कार्यकाल में कई जनकल्याण से जुड़ी योजनाओं को भी जमीन पर भी उतारा गया है।

आइए जानते हैं पीएम मोदी की कुछ बड़ी उपलब्धियां:

पूरा हुआ राम मंदिर निर्माण का सपना

दशकों से भव्य राम मंदिर निर्माण की आस लगाए लोगों का सपना पांच आगस्त 2020 को पूरा हुआ, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंदिर के लिए भूमि पूजन किया। मंदिर निर्माण के शुभारंभ के साथ ही इस विवादास्पद मामले का शांति के साथ समाधान हो गया। राम मंदिर और विवादित ढांचे के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने रोजाना सुनवाई करने के बाद मंदिर के पक्ष में अपना फैसला दिया था।

जम्मू-कश्मीर पर एतिहासिक फैसला

5 अगस्त 2019 को देश के नए गृहमंत्री बन अमित शाह ने कश्मीर से धारा 370 को खत्म करने का ऐलान किया। इसके साथ ही कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म हो गया। इतना ही नहीं, ये मोदी सरकार की राजनैतिक इच्छाशक्ति ही थी कि उसने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेश में बांट दिया। कश्मीर पर लिए गए इस फैसले का विपक्ष के लोगों ने विरोध भी किया, लेकिन पूरे एहतियात के साथ मोदी सरकार अपने इस फैसले को लागू करने में कामयाब रही।

जम्मू-कश्मीर पर एतिहासिक फैसला

5 अगस्त 2019 को देश के नए गृहमंत्री बन अमित शाह ने कश्मीर से धारा 370 को खत्म करने का ऐलान किया। इसके साथ ही कश्मीर का विशेष राज्य का दर्जा खत्म हो गया। इतना ही नहीं, ये मोदी सरकार की राजनैतिक इच्छाशक्ति ही थी कि उसने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेश में बांट दिया। कश्मीर पर लिए गए इस फैसले का विपक्ष के लोगों ने विरोध भी किया, लेकिन पूरे एहतियात के साथ मोदी सरकार अपने इस फैसले को लागू करने में कामयाब रही।