ALL राष्ट्रीय उत्तर प्रदेश राज्य राजनीति अपराध विशेष विज्ञापन दुनिया कोविड-19 (कोरोना वायरस)
*"युद्ध पहाड़ की उंचाई से नही सैनिकों के ऊँचे हौसले व सच्ची वीरता से जीते जाते है" कारगिल के वीर शहीदों को नमन*
July 26, 2020 • ब्यूरो रिपोर्ट - न्यूज ऑफ फतेहपुर • उत्तर प्रदेश

*"युद्ध पहाड़ की उंचाई से नही सैनिकों के ऊँचे हौसले व सच्ची वीरता से जीते जाते है" कारगिल के वीर शहीदों को नमन*


अमौली(फतेहपुर)।कारगिल विजय दिवस पर देश के लिए शहीद हुए वीर सपूत जो वर्ष 1999 में कारगिल युद्ध आज के ही दिन यानि 26 जुलाई को कई वीर सपूतो ने इस युद्ध में अपनी जान गवाई थी।जिसके चलते  आज अमर शहीद विजय कुमार पांडेय को याद किया गया। विजय कुमार पांडेय फतेहपुर जिले के चांदपुर थाना अंतर्गत साठीगवा गांव के निवासी है।विजय कुमार पांडेय 4 जुलाई 2012 को बरेली से बी0एस0एफ में सिपाही के पद पर भर्ती हुए थे। विजय कुमार पांडेय को जम्मूकश्मीर के अखनूर सेक्टर में तैनाती मिली थी।3 जून 2018 को रात में पाकिस्तानी घुस पैठियो ने अचानक हमला बोल दिया था।जिनसे लड़ते-लड़ते भारत माँ का वीर सपूत शहीद हो गया था। शहीद विजय कुमार पांडेय का उनके पैतृक गांव में उनकी याद में स्म्रति शहीद स्थल बनवाया गया है।शहीद विजय कुमार पांडेय के बड़े भाई।अजय पांडेय कानपूर नगर निगम में कार्यात है।शहीद विजय कुमार पांडेय की माँ और पिता कृष्ण कुमार पांडेय व सरिता पांडेय ने कहा था।बेटा खोने का गम है।लेकिन कोई और बेटा होता तो उसे भी सिमा पर भेज देते। गोली लगने के बाद भी लड़ते रहे थे शहीद विजय कुमार पांडेय,विजय ने कई घुस पैठियो को मार गिराया था। देश के लिए शहीद हुए अपने बेटे पर गर्व है।विजय के माता पिता को।